आम के अजीबोगरीब नाम? जानें कैसे पड़े अल्फांसो व लंगड़ा नाम!

0
1079
views
Like
Like Love Haha Wow Sad Angry

Mangoआम का नाम आते ही हमारें जहन में इस नाम की छवि के साथ मुंह में पानी आ जाता हैं। ऐसा है नाम का प्रभाव। आम के विभिन्न स्वाद के साथ उसके विभिन्न नाम भी बहुत प्रचलित हैं। आज हम आपको बताऐगें क्यों आम को कई नामों से जाना जाने लगा।

बता दें कि आम का वैज्ञानिक नाम मेंगीफेरा इंडिका हैं। इसे भारत, पाकिस्तान और फिलीपींस में राष्ट्रीय फल का दर्जा हासिल हैं। वहीं दूसरी तरफ बांग्लादेश में इसके पेड़ को राष्ट्रीय पेड़ का दर्जा भी प्राप्त हैं। इसे संस्कृत भाषा में आम्र: नाम से बोला जाता हैं। इसके साथ कई भाषा में इसे सिर्फ आम कहा जाता हैं। वहीं मलयालम में इसका नाम मान्न हैं। अग्रेंजी में इसे मैंगो कहा जाता हैं इसके पिछे मान्यता है कि १४९० के समापन में पुर्तगाली लोग वापस जाते समय मसालों के साथ आम और इसका नाम भी ले गए। वे लोग इसे मांगा बोल कर संबोधित करते थें। इसी के साथ मांगा से अंग्रेजी शासको ने इसे मैंगो नाम दे दिया। अब बात करते हैं कि आम को हम अल्फांसो, दशहरी, चौसा और लंगड़ा जैसे नाम से ही क्यों पुकारते हैं। तो चलिए जानते हैं।

लंगड़ा-

Langra Mango--4

इस आम को पहली बार उगाने वाला मनुष्य एक पैर से लगड़ा होने के कारण इस आम को लगड़ा नाम रख दिया गया। कहा जाता है कि इसका पहला पेड़ आज भी जीवित हैं।

अल्फांसो-

Alfanso Mango--3244

भारत देश में पुर्तगाली उपनिवेश स्थापित करने वाले जनरल अल्फांसों डी अल्बुकर्क के नाम पर इस आम की प्रजाति को अल्फांसो नाम रखा गया हैं।

चौसा-

Chousha mango-22

इस आम का नाम शेरशाह सूरी ने पटना के समीप चौसा की लड़ाई में जीतने की खुशी और हमेशा अपनी इस जीत की याद अमर रहें इसलिए इस आम का नाम चौसा रख दिया था।

दशहरी-

Dashrai Mango-098

इस आम की पहली प्रजाती ऊतर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के पास दशहरी गांव में पहली बार उगाया गया था। इसलिए इस प्रजाती का नाम इस गांव के नाम पर रख दिया गया।

सिंदूरी-

Sinduri Mango--2

इस आम के छिलकों पर हरे रंग के अलावा सिंदूरी रंग भी दिखाई देता है। इसलिए इसे सिंदूरी कहा जाता हैं।

गुलाब खास-

Gulab Khas Mango-0099

इस किस्म का आम का नाम गुलाबी रंग और गुलाब की खुशबू और स्वाद के कारण इसे गुलाब खास नाम से जाने जाना लगा।

केसर-

Kesar Mango-33

इस आम की प्रजाती के छिलकों का रंग केसरिया रंग से बहुत मिलता-जुलता हैं इसलिए इसे केसर आम कहा जाता हैं। यह आम की पैदावार गुजरात में होती हैं।

सफेदा-

safeda mango-3

इसके छिलके का रंग कुछ सफेद की तरह है। इसलिए इसे सफेदा नाम रखा गया।

तोतापुरी-

Totapuri Mango

इस आम की एक तरफ की आकृति कुछ तोते की चोंच जैसी नोक और रंग के कारण इसे तोतापुरी नाम से जाने जाना लगा।

Like
Like Love Haha Wow Sad Angry

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here