क्या किसी की नजर हमारें दु:ख का कारण हो सकती हैं? जानें कैसे नजर दोष से पायें मुक्ति!

0
2502
views
Like
Like Love Haha Wow Sad Angry
41

najar lagana-2नजर दोष एक ऐसा शब्द हैं जिसनें हमारें जीवन और हमारें रहन-सहन में विशेष स्थान बनाया हुआ हैं। आज के भाग-दौड़ वाले जीवन में इस समस्या को हम भूलते चले जा रहें हैं। परन्तु यह अपना प्रभाव का जाल आज भी हमारें ऊपर पूर्ण रूप से फैलाया हुआ हैं। जिसके चलते हमें कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता हैं। आज हम आपकों कुछ ऐसे उपायों से अवगत कराऐंगे जिससे करने के फलस्वरूप आपकों नजर दोष से होने वाली समस्याओं से छुटकारा मिल जायेगा।

najar lagana-1१.अगर किसी व्यक्ति को भोजन के समय देख कर कोई बोले की आप तो बहुत खाते है या फिर भोजन बहुत प्रेम पूर्वक खाते हैं तो समझ लिजिऐ कि आप को उस व्यक्ति की नजर लग गई हैं। अगले दिन आपका भोजन से रूचि खत्म हो जाऐगी। ऐसे में इमली की ३ छोटी डालियों को लेकर आग में जलाकर नजर लगे व्यक्ति के माथे पर से ७ बार घुमाकर पानी में बुझा दें। और उस पानी को नजर दोष व्यक्ति को पिला दें। नजर दोष दूर हो जाऐगा।

२.बच्चों के लिए लाल मिर्च, अजवाइन और पीली सरसों को मिट्टी के एक छोटे बर्तन में आग लेकर जलाएंं। फिर उसकी धूप नजर लगे बच्चे को दें। किसी भी प्रकार की नजर लगी हो नजर दोष दूर हो जाऐगा।

३.अगर किसी को नजर दोष लगता हैं तो ऐसे व्यक्ति को अपने इष्ट देव का नाम लेकर पान में गुलाब की ७ पंखुड़ियां रखकर खा लेना चाहिए। नजर दोष का प्रभाव समाप्त हो जाता हैं।

४.अगर नजर लगनें से बिमार पड़े व्यक्ति के ऊपर से नमक, राई, राल, लहसुन एवं प्याज के सूखे छिलके व सूखी मिर्च अंगारे पर डालकर उस आग को ७ बार घुमाने से बुरी नजर का दोष समाप्त हो जाता हैं।

५.अगर किसी का कहना कि आप बहुत अच्छा भोजन बना लेती हैं। तो ऐसे में भी नजर दोष होता हैं। आपके द्वारा बनाऐ हुए भोजन में से थोड़ा-थोड़ा एक पत्ते पर लेकर उस पर गुलाब छिड़ककर रास्ते में रख दें। फिर बाद में सभी खाना खाएं। नजर दोष खत्म हो जाती हैं।

६.शनिवार को अगर हम हनुमान मंदिर से हनुमान जी के कंधे से सिंदूर लाकर नजर लगे व्यक्ति के माथे पर लगाये तो नजर दोष दूर हो जाता हैं।

Like
Like Love Haha Wow Sad Angry
41

Warning: A non-numeric value encountered in /home/gyaansagar/public_html/wp-content/themes/ionMag/includes/wp_booster/td_block.php on line 1008

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here