Nimbu aur Mirch me chhipaa hai Sakaratamak aur Nakaratamak Urja

1
1467
views
Like
Like Love Haha Wow Sad Angry
552

नींबू और मिर्च में छिपा है सकारात्मक एवं नकारात्मक ऊर्जा

क्यों नहीं सड़क पर फेंके गये नींबू और मिर्च पर पैर रखना चाहिए?

Nimbu & Mirch-1

आप ने अधिकतर बड़े बुजुर्गों को कहते हुए सुना होगा कि सड़क पर यदि नींबू मिर्च पड़े हों तो उस पर पैर नही रखना चाहिए। इसके पीछे कोई अंधविश्वास नहीं है। इसका बहुत बड़ा कारण है।
हमने देखा है कि लोग अमूमन अपने घरों, दूकानों या अपने ऑफिस को लोगों की बुरी नजर से बचाने हेतू नींबू-मिर्च को धागे से बांध कर फ्रंट पर टांग देते है। कुछ दिन बाद उसके खराब हो जाने पर उसको सड़क के बीचो-बीच फेंक देते है। जानिए ऐसा क्यों?

क्यों इसका इस्तेमाल होता है?

विशेष तौर पर टोटकों और तंत्र कार्य हेतू नींबू-मिर्च, तरबूज और सफेद कद्दू का उपयोग किया जाता है। लेकिन हम हमेशा से नींबू और मिर्च से बुरी नजरों को दूर करने के लिए इस्तेमाल में लाये जाने की बात सूनते है। क्योंकि नींबू के स्वाद में खट्टा और मिर्च का तीखा पन होने के कारण से इसका महत्व बड़ जाता है। इसके इसी गुण के कारण लोगों के द्वारा नाकारात्मक ऊर्जा को यह सहजता से सोख लेता है।

क्यों सड़क पर फेंका जाता है निंबू और मिर्च को?
Nimbu & Mirch-2

घरों, कार्यस्थल और संपत्ति की जगह से बंधे हुए नीम्बू और मिर्च को हटाकर इसलिए फेंका जाता है क्योंकि आने जाने वाले लोग उसके संपर्क में आए। इससे जिसने उस नीम्बू को फेंका है उसका फायदा होना शुरू हो जाता है। लेकिन जो लोग उस नीम्बू और मिर्च पर पैर रखते हैं उनके लिए तो मानो समस्याओं का पहाड़ सा टूट पड़ता है। क्योंकि जिसने उसे फेंका है उसकी सारी परेशानियां और कष्ट दूसरे व्यक्ति के ऊपर चले जाते है। उस व्यक्ति पर बुरी नजर और नकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव पड़ने लगता है। इससे उनकी तरक्की रूक जाती है और वह अंधेरे में जीने लगता है। उनके कार्य रूक से जाते है। इसलिए सड़क पर पड़े नींबू और मिर्च से हमेशा बचकर ही चलना चाहिए। नहीं तो किसी और के साथ हो रहा नुकसान आपके गले पड़ के आपको कष्ट देने लगेगा।

बीमारी से बचाव में इसका उपयोग-

प्रचलित मान्यता के अनुसार अगर सुई लगा नींबू किसी बीमार के सिर पर से सात बार फेर कर चौराहे पर रख दे तो चौराहे से जाते हुए जो भी व्यक्ति उस नींबू को पार कर चला जाएगा या उसे स्पर्श करेगा तो बीमार व्यक्ति की सारी बीमारी उसको लग जाती है। वहीं दूसरी तरफ बीमार हुआ व्यक्ति स्वस्थ होेने लगता है।

Like
Like Love Haha Wow Sad Angry
552

Warning: A non-numeric value encountered in /home/gyaansagar/public_html/wp-content/themes/ionMag/includes/wp_booster/td_block.php on line 1008

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here