Devi ke 51 Shaktipith me 4 Shaktipith se Anjaan hai Log

0
1117
views
Like
Like Love Haha Wow Sad Angry
21

५१ शक्तिपीठ में आज भी ४ शक्तिपीठ से लोग है अनजान, जिसके अज्ञात होने से आज हम खोलेगें पर्दां

कहाँ है ये चार शक्तिपीठ ?, क्या कभी किसी ने इसे देखा है?
http://gyaansagar.com/wp-content/uploads/2017/04/Daksheshwar_Mahadev_temple.jpg

हिन्दू धर्म शास्त्रों के अनुसार जहां-जहां सती के अंग, धारण किए वस्त्र या आभूषण गिरे थे, वहां-वहां शक्तिपीठ अस्तित्व में आए। इन शक्तिपीठो की संख्या अलग-अलग धर्म ग्रंथों में अलग-अलग दी गई है। जहां देवी पुराण में ५१ शक्तिपीठो का वर्णन है वही देवी भागवत में १०८, देवी गीता में ७२ और तन्त्रचूडामणि में ५२ शक्तिपीठ बताए गए हैं। हालांकि मुख्य तौर पर देवी के ५१ शक्तिपीठ ही माने गए है। लेकिन क्या आप जानते हैं, ५१ शक्तिपीठो में से चार शक्तिपीठ ऐसे भी हैं जो आज भी अज्ञात हैं। वे आज कहां और किस रूप में हैं, यह बात कोई नहीं जान पाया। आज इसी से हम आपकों को रूबरू करा रहे हैं-

१.कालमाधव शक्तिपीठ-
कहते है यहां देवी सती कालमाधव और शिव असितानंद नाम से विराजित हैं। मान्यता है यहां मां सती का बाएं कूल्हे गिरे थे। यह स्थान भी आज तक अज्ञात है।

२.पंचसागर शक्तिपीठ-
कहते है यहां सती का निचला जबड़ा गिरा था। यहां देवी सती को वरही कहा गया है। शास्त्रों में इस शक्तिपीठ का उल्लेख मिलता है। लेकिन यह स्थान कहां हैं, कोई नहीं जानता।

३.लंका शक्तिपीठ-
यहां देवी सती का कोई गहना गिरा था। यहां सती को इंद्राक्षी और शिव को रक्षेश्वर कहते हैं। शास्त्रों में इस शक्तिपीठ का उल्लेख मिलता है। लेकिन इसकी वास्तविक स्तिथि का नहीं।

४.रत्नावली शक्तिपीठ-
मां सती के इस शक्तिपीठ को लेकर कहा जाता है कि यहां देवी मां का कंधा गिरा था। मान्यता है कि यह अंग मद्रास की आस-पास गिरा, लेकिन सही स्तिथि ज्ञात नहीं है।

Like
Like Love Haha Wow Sad Angry
21

Warning: A non-numeric value encountered in /home/gyaansagar/public_html/wp-content/themes/ionMag/includes/wp_booster/td_block.php on line 1008

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here