Kya Daan kerna bhi Shubh aur Ashubh Fal ke Chakra me aate hai?

0
1993
views
Like
Like Love Haha Wow Sad Angry
8655124

क्या दान करना भी शुभ और अशुभ फल के चक्र में आते हैं?

किन चीजों का दान करने से शुभ फल मिलते हैं?
किन लोगों को दान करने से मिलते है शुभ और अशुभ फल?

Daan

मान्यता हैं कि किया गया दान-पुण्य हमेशा हमारे संकट के समय आड़े आते है जिसका मतलब है कि दान करने से शुभता मिलती है। भगवान शिव को समर्पित शिव पुराण जिसमें हमारें दैनिक जीवन से जुड़ी समस्याओं के कई चकत्कारिक उपायों का उल्लेख किया गया है। इन्हीं में से कुछ उपाय दान के सम्बन्ध में बताया गया है। जिन्हें हम कर के अपने जीवन में खुशियाँ ला सकते हैं एवं बुरा समय को दूर कर सकते हैं। इसी संबंधित कुछ ६ चीजों के बारे में शिवपुराण में विस्तार से उल्लेख किया गया हैं। जिसके करने के बाद हमारी सारी मनोकामनाऐं पूरी हो सकती हैं।

तिल-

Kali til

तिल के दान के बारे में शिवपुराण में बताया गया है कि अगर हम तिल दान करें तो हमारे शरीर में शक्ति का समावेश होता है और मन में घर कर गया मौत का खौफ भी दूर हो जाता है।

वस्त्र-

kapade

शिव पुराण के अनुसार अगर किसी जातक के हस्त में जिन रेखा(आयू रेखा) छोटी हो तो ऐसे में अगर आप अपनी हैस्यित के अनुसार नए या पुराने कपड़ों का दान करते है तो आपकी उम्र बढ़ सकती है और आप लम्बें समय तक निरोगी रह सकते हैं।

गुड़-

Gud

शिवपुराण के अनुसार मनचाहा एवं शुद्ध भोजन के प्राप्ति की इच्छा हेतू अगर हम गुड़ का दान करें तो हमारी यह इच्छा पूरी हो सकती हैं।

अनाज-

Aanaj

कहा जाता है कि अगर हम समय-समय पर गरीबों की मद्द स्वरूप अनाज का दान करें तो हमारे अनाज भण्डार में कभी भी अनाज की कमी नही आती है एवं उनके आर्शीवाद रूप में हमारें घर में आये हुए अतिथियों को कराते हुए भोजन कभी कम नही पड़ता हैं।

नमक-

Namak

भगवान शिव को समर्पित शिवपुराण के अनुसार नमक का दान करने से आप अपना बुरा समय को काफी हद तक कम कर सकते है। वहीं ऐसा करने से आपको भगवान शिव के आर्शीवाद स्वरूप हमेशा आपके भोजन के समय आपको श्रेष्ठ भोजन की भी प्राप्ति हो सकती है।

घी-

Deshi Ghee

शिव पुराण में घी का दान भी महत्वपूर्ण माना गया हैं। अगर हम इसका दान करते है तो लम्बे समय से शरीर में चली आ रही कमजोरियों का नाश हो जाता है एवं हमारा शरीर स्वस्थ हो सकता है।

दान किसे करना चाहिए और किसे नहीं-

Daan kerna

शिवपुराण में बताया गया है कि हमें किसे दान करना चाहिऐ और किसे नहीं करना चाहिए। पुराण में बताऐ गये किन नौ लोगों को दिया गया दान सफल होता है और असफल होता हैं। इसी के बारे में हम आपको आज रूबरू करा रहें है। जो निम्नवत् है-

माता, पिता, गुरू, विनयी, दीन, उपकार करने वाला, मित्र, सज्जन पूरूष और अनाथ को दिया गया दान सफल होता हैं। वहीं बंदी, मूर्ख, धूर्त, अयोग्य चिकित्सक, चाटुकार, शठ, जुआरी, चोर और चारण को दिया गया दान असफल होता है। कहा जाता है जैसे कि ”भरे हुए पेट वाले मनुष्य को भोजन देना असफल होता है वैसे ही एक भूके को भर पेट भोजन कराना सफल माना जाता है।”

Like
Like Love Haha Wow Sad Angry
8655124

Warning: A non-numeric value encountered in /home/gyaansagar/public_html/wp-content/themes/ionMag/includes/wp_booster/td_block.php on line 1008

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here