punarjanam

0
854
views
Like
Like Love Haha Wow Sad Angry
328

मृत्यु के बाद क्या होता है आत्मा का, किस रूप में पुनर्जन्म होता है आत्मा का!

punarjanam ka rahashyaमृत्यु के बाद आत्मा की क्या गति होगी या वह पुनः किस रूप में जन्म लेगी, इसके सम्बन्ध में भी जन्म कुण्डली देखकर जाना जा सकता है। आगे इसी से संबंधित कुछ प्रमाणिक योग बताए जा रहे हैं-

1. कुण्डली में कहीं पर भी यदि कर्क राशि में गुरू स्थित हो तो जातक मृत्यु के बाद उत्तम कुल में जन्म लेता है।

2. लग्न में उच्च राशि का चंद्रमा हो तथा कोई पापग्रह उसे न देखते हों तो ऐसे व्यक्ति को मृत्यु के बाद सद्गति प्राप्त होती है।

3. अष्टम में अस्थ राहु जातक को पुण्यात्मा बना देता है तथा मरने के बाद वह राजकुल में जन्म लेता है, ऐसा विद्वानों का कथन है।

4. अष्टम भाव पर मंगल की दृष्टि हो तथा लग्नस्थ मंगल पर नीच शनि की दृष्टि हो तो जातक रौरव नरक भोगता है।

5. अष्टमस्थ शुक्र पर गुरू की दृष्टि हो तो जातक मृत्यु के बाद वैश्य कुल में जन्म लेता है।

6. अष्टम भाव पर मंगल और शनि, इन दोनों ग्रहों की पूर्ण दृष्टि हो तो जातक की अकाल मृत्यु होती है।

7. अष्टम भाव पर शुभ अथवा अशुभ किसी भी प्रकार के ग्रह की दृष्टि न हो और न अष्टम भाव में कोई ग्रह स्थित हो तो जातक ब्रह्मलोक प्राप्त करता है।

8. लग्न में गुरू-चंद्र, चतुर्थ भाव में तुला का शनि एवं सप्तम भाव में मकर राशि का मंगल हो तो जातक जीवन मे कीर्ति अर्जित करता हुआ मृत्यु उपरांत ब्रह्मलीन होता है अर्थात उसे मोक्ष की प्राप्ति होती है।

9. लग्न में उच्च का गुरू चंद्र को पूर्ण दृष्टि से देख रहा हो एवं अष्टम स्थान ग्रहों से रिक्त हो तो जातक जीवन में सैकड़ों धार्मिक कार्य करता है तथा प्रबल पुण्यात्मा एवं मृत्यु के बाद सद्गति प्राप्त करता है।

10. अष्टम भाव को शनि देख रहा हो तथा अष्टम भाव में मकर या कुंभ राशि हो तो जातक योगिराज पद प्राप्त करता है तथा मृत्यु के बाद विष्णु लोक प्राप्त करता है।

11. यदि जन्म कुण्डली मे चार ग्रह उच्च के हों तो जातक निश्चय ही श्रेष्ठ मृत्यु का वरण करता है।

12. ग्यारहवे भाव मे सूर्य-बुध हों, नवम भाव में शनि तथा अष्टम भाव में राहु हो तो जातक मृत्यु के पश्चात् मोक्ष प्राप्त करता है।

विशेष योग-

1. बारहवां भाव शनि, राहु या केतु से युक्त हो फिर अष्टमेश (कुण्डली के आठवें भाव का स्वामी) से युक्त हो अथवा षष्ठेश(छठे भाव का स्वामी) से दृष्ट हो तो मरने के बाद अनेक नरक भोगने पड़ेंगे, ऐसा समझना चाहिए।

2. गुरू लग्न में हो, शुक्र सप्तम भाव में हो, कन्या राशि का चंद्रमा हो एवं धनु लग्न में मेष का नवांश हो तो जातक मृत्यु के बाद परमपद प्राप्त करता है।

3. अष्टम भाव को गुरू, शुक्र और चंद्र, ये तीनों ग्रह देखते हों तो जातक मृत्यु के बाद श्रीकृष्ण के चरणों में स्थान प्राप्त करता है, ऐसा ज्योतिषियों का मत है।

Like
Like Love Haha Wow Sad Angry
328

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here