Vishnu Puran aur Vastu Shastranusaar Tulsi ka Poudha Ghar me Kaha lagaye.

0
1072
views
Like
Like Love Haha Wow Sad Angry
1121

विष्णु पुराण और वास्तु शास्त्रानुसार तुलसी का पौधा घर में कहाँ लगाएं!

tulasiहिन्दू घरों में अक्सर तुलसी का पौधा आसानी से देखने में मिल जाता हैं। यह प्रथा हजारों सालों से चली आ रही हैं। लोगों की आस्था है कि इसकों घर में लगाने से घर और घर में रह रहे लोगों का शुभ होता हैं। इसके साथ बुरी नजर या अन्य बुराइयां भी घर और घरवालों से दूर रहती है। हमारें धर्म में तुलसी के पौधे को देवतुल्य माना गया हैं। आज हम आपकों कुछ बातों से अवगत करा रहें है जिसको पालन करने से इसका प्रभाव और अधिक बढ़ जाता है। आइए जानते हैं तुलसी के पौधे को घर में कहा और कैसे लगाऐ।TULSHI-2

घर-आंगन में तुलसी लगाने से-

घर के आंगन में तुलसी का पौधा लगाते समय यह ध्यान देना चाहिए कि पौधा दरवाजे के सामने रहें। जिसके साथ जल चढ़ाना और दीया जलाना चाहिए। इसकों करने से घर की सुख-समृद्धि बनी रहती है और घर के सदस्य को संक्रामक बीमारियों से सामना नहीं करना पड़ता हैं। क्यों कि द्वार के सामने होने से घर में आने वाली वायु शुद्ध रूप से प्रवेश करती हैं।

उत्तर-पूर्व कोने मे लगाना शुभ फल देता है-

इस प्रकार करने से घर के कई तरह के वास्तुदोष दूर होते हैं। वास्तु शास्तानुसार इस कोने में सकारात्मक ऊर्जा का केन्द्र माना गया हैं। इस कोने को हमेशा साफ-सुथरा रखना चाहिए।

तुलसी की परिक्रमा करने के फायदें-

वैज्ञानिक भी मानते है कि अगर हम तुलसी के पौधे की रोज परिक्रमा करे तो हमारे शरीर की इम्यून सिस्टम मजबूत होती हैं। क्यों तुलसी के पौधे में एंटी बैक्टिरयल प्रापर्टीज मौजूद होती है। इसके साथ घर की सुख-शांति में बढ़ोत्तरी होती हैंं।

वैज्ञानिक और धार्मिक आस्था-

वैज्ञानिक दृष्टि से इस पौधे की पत्ती का रोज नियमित सेवन करने से कैंसर और दमा जैसे गम्भीर रोगों से बचा जा सकता हैं। धार्मिक दुष्टि से भगवान श्रीकृष्ण को तुलसी का पौधा अतिप्रिय है। इसको घर में लगाने से भगवान श्रीकृष्ण की विशेष कृपा हमारे घर में रहती हैं।

Like
Like Love Haha Wow Sad Angry
1121

Warning: A non-numeric value encountered in /home/gyaansagar/public_html/wp-content/themes/ionMag/includes/wp_booster/td_block.php on line 1008

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here