शनिवार के दिन बजरंगबली की पूजा से क्यों प्रसन्न होते हैं शनि देव, जानें ये रोचक कथा

0
41
views
Like
Like Love Haha Wow Sad Angry
2

शनिवार के दिन जो भक्त बजरंगबली की पूजा करते हैं, उनसे शनि देव भी प्रसन्न रहते हैं. यदि आप शनि देव की कृपा प्राप्त करना चाहते हैं तो शनिवार के दिन बजरंगबली की भी पूजा जरूर करें.

Gyaansagar:शनिवार का दिन शनिदेव की पूजा के लिए उत्तम माना जाता है. शनिवार के दिन शनिदेव की पूजा करने से शनिदेव की कृपा प्राप्त होती है और भक्तों के सारे कष्ट दूर हो जाते हैं.लेकिन शनिवार के दिन शनिदेव के साथ ही बजरंगबली की भी पूजा करने का महत्व है.

धार्मिक मान्यता के अनुसार, जो भक्त शनिवार के दिन बजरंगबली की पूजा करते हैं उनसे शनि देव प्रसन्न होते हैं और उन्हें कष्ट नहीं देते. इसलिए शनिवार के दिन शनि देव के साथ ही बजरंगबली की भी पूजा जरूर करें. जानते हैं शनिवार के दिन शनि देव और बजरंगबली की पूजा से जुड़ी पौराणिक कथा के बारे में.

त्रेतायुग में बजरंगबली की मदद से कारागार से मुक्त हुए थे शनिदेव

त्रेतायुग के रामायण काल के समय जब रावण माता सीता का हरण कर लंका ले गए थे. तब प्रभु श्रीराम की आज्ञा पाकर बजरंगबली माता सीता को ढूंढ़ते हुए लंका पहुंचे थे. लंका पहुंचते ही बजरंगबली ने देखा कि रावण ने कारागार में शनि देव को भी बंदी बना रखा है. बजरंगबली ने शनि देव से इसका कारण पूछा, तो पता चला कि रावण ने शनि देव के साथ ही कई अन्य ग्रहों को भी कैद कर रखा था.

बजरंगबली ने शनि देव की मदद की और उन्हें रावण के कैद से मुक्त कराया. इस तरह शनि देव बजरंगबली की मदद से रावण के कैद से मुक्त होकर प्रसन्न हुए. उन्होंने बजरंगबली से कुछ वरदान मांगने को कहा.

तब बजरंगबली ने शनि देव से वरदान मांगा कि, जो भक्त शनिवार के दिन मेरी पूजा करेगा उसे आप कभी कष्ट नहीं देंगे. इसके बाद से ही शनिवार के दिन शनि देव के साथ बजरंगबली की पूजा करने का विधान है. शनि देव की साढ़े साती और ढैय्या के प्रभाव को कम करने के लिए भी शनिवार के दिन बजरंगबली की पूजा जरूर करें.

Like
Like Love Haha Wow Sad Angry
2

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here