बार-बार लगती है चोट या होते हैं एक्‍सीडेंट के शिकार ये छोटा सा उपाय देगा बड़ी राहत

0
34
views
Like
Like Love Haha Wow Sad Angry

ग्रह बनाते हैं दुर्घटना के योग 

ज्‍योतिष में मंगल, शनि और राहु को दुर्घटनाकारक ग्रह बताया गया है. यदि कुंडली में ये 3 गड़बड़ स्थिति में हों तो जातक को अक्‍सर चोट लगती रहती है. शनि, मंगल का अशुभ प्रभाव व्‍यक्ति को सड़क दुर्घटना, गिरने या अन्‍य किसी कारण से चोट देता है. कई बार बेवजह के झगड़े भी मार-पीट तक उतर आते हैं तो वहीं अन्‍य कारणों से भी व्‍यक्ति के शरीर से खून बहता है. ऐसे में इन स्थितियों से बचने के लिए ग्रह शांति के अलावा कुछ अन्‍य उपाय भी कर लेना बेहतर होता है. 

रक्‍तदान से होगा दुर्घटनाओं से बचाव 

ज्योतिष में वैसे तो ऐसी स्थितियों से बचने के लिए कई उपाय बताए गए हैं लेकिन इसमें सबसे प्रभावी उपाय है रक्‍तदान. रक्‍तदान करने से व्‍यक्ति के शरीर से खून भी निकल जाता है और इससे किसी की जिंदगी भी बच जाती है. इसलिए रक्‍तदान को महादान भी कहा गया है. रक्‍तदान करने से रक्‍त के बहने का योग खत्‍म हो जाता है और व्‍यक्ति का चोटों-दुर्घटनाओं से बचाव भी होता है. इसके अलावा रक्‍तदान करने से शरीर भी स्‍वस्‍थ रहता है. 

  1.  शुभ चिह्न जैसे स्वस्तिक, ऊँ, श्रीराम लिखा हुआ या हनुमानजी का चित्र बना हुआ लाल झंडा किसी शुभ मुहूर्त में घर लेकर आएं।
  2.  घर में इस झंडे की विधिवत पूजा करें। पूजा के बाद छत पर इसे लगा दें और भगवान से अनहोनी टालने की प्रार्थना करें।
  3. महीने में कम से कम एक बार हनुमानजी को लाल फूल, लाल लंगोट और लाल झंडा चढ़ाएं। सुंदरकांड का पाठ करें।
  4. सुंदरकांड के पाठ में समय अधिक लगता है, अगर समय अभाव हो तो हनुमान चालीसा का पाठ रोज करें
  5. हर शनिवार शनिदेव के लिए सरसों के तेल का दान करें।
  6. इसके लिए एक कटोरी में तेल और उसमें अपना चेहरा देखकर दान करें
  7. हनुमानजी के मंदिर में भगवान के सामने सरसों का तेल भरकर मिट्टी का दीपक रोज जलाएं।
  8. अगर रोज संभव ना हो तो हर मंगलवार और शनिवार को ये उपाय जरूर करें।
  9. देवी दुर्गा की पूजा से सभी प्रकार के अनिष्ट दूर हो सकते हैं। माता अपने भक्तों को हर अनहोनी से बचा सकती हैं।
  10. घर से निकलने से पहले देवी दुर्गा की पूजा जरूर करें। दुर्गा मां की पूजा करने वाले लोगों को अधर्म और अपवित्रता से बचना चाहिए।
  11. महिलाओं का सम्मान करें। कभी भी अपनी माता का अनादर न करें। माता-पिता का आशीर्वाद लेकर घर से निकलना चाहिए।
Like
Like Love Haha Wow Sad Angry

Warning: A non-numeric value encountered in /home/gyaansagar/public_html/wp-content/themes/ionMag/includes/wp_booster/td_block.php on line 1008

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here