Mandir jaane se hota hai Hamare Swaasth me 7 Faayede!

1
1094
views
Like
Like Love Haha Wow Sad Angry
282

mandir

मंदिर- मन: और अन्दर यह दोनों शब्दों का समावेश ही मंदिर कहलाता है। ऐसे मंदिर में स्थापित हमारें आराध्य सच्चिदानंद जो सत चित आंनद हो वहाँ सारे देवताओं का वाश होता हैं। ऐसे मंदिर को देवालय भी कहा जाता है। मान्यता है कि आमतौर पर मंदिर में जाना धार्मिक रिति-रिवाजों से जोड़ा गया है। हमारें मंदिर में जाने से हमें एक आलौकिक शांति का अनुभव होता हैं। इसी क्रम में वैज्ञानिकों ने भी कई शोध किये जिसमें यह देखा गया की मंदिर जाने से हमारें स्वास्थ्य में कई फायदें होते है। वैज्ञानिकों का मत है कि अगर हम रोज मंदिर जाते है तो इससे सात तरह की हेल्थ प्रॉब्लम्स कंट्रोल की जा सकती हैं। जिनके बारें में आज हम आपकों अवगत करा रहें है।

१. एनर्जी लेवल बढ़ना-

Ghanta

मंदिर के प्रवेश द्वार पर लगे घंटे को हमारें द्वारा बजाने से ७ सेकण्ड्स तक हमारें कानों में पहुंचने वाली ध्वनि गूंजायमान रहती है। जिससे हमारें शरीर में सुकून पहुंचने के साथ हमारें शरीर में मौजूद ७ प्वाइंट्स एक्टिव हो जाते हैं। इससे हमारी एनर्जी लेवल बढ़ने में मदद मिलती है।

२. स्ट्रेस दूर होना-

Sankhnaad

मंदिर में रहने के दौरान वहाँ का शांत माहौल मेंटली रिलैक्स में मदद करती है। जिससे हमारे स्ट्रेस दूर हो जाते है। एवं मंदिर में शंखनाद होने से हमारें शरीर में एक दिव्य ऊर्जा का संचार होता है।

३. हाई बीपी कंट्रोल –

nangepaav

मंदिर में जाते समय हम नंगे पांव होते है। पर हमने कभी यह नहीं सोचा होगा की इसका भी हमारें स्वास्थ्य में सकारात्मक प्रभाव हो सकता है। नंगे पांव मंदिर में जाने से वहां की पॉजिटिव एनर्जी पैरों के जरिए हमारें शरीर में प्रवेश कर जाती है। जिससे साथ ही साथ नंगे पांव होने से पैरों में मौजूद प्रेशर प्वाइंट्स पर दवाब भी पड़ता है, जिससे लम्बें समय से चल रही हमारी हाई बीपी की प्रॉब्लम कंट्रोल हो जाती हैं।

४. बैक्टीरिया से बचाव-

kapoor

मंदिर में पूजा हेतू उपयोग में लाया गया कपूर और हवन का धुआं हमारे शरीर में मौजूद बैक्टीरिया खत्म करता है। इससे वायरल इंफेक्शन का खतरा टलता है।

५. डिप्रशन दूर होना-

aarti

हमारें रोज मंदिर में जाना और भगवान की आरती गाने से ब्रेन फंक्शन सुधरते हैं। इससे डिप्रेशन दूर होता है।

६. कॉन्सेंट्रेशन बढ़ना-

Tilak

मंदिर जाने पर वहां मौजूद पुजारी हमारें दोनों भौहों के मध्य में तिलक लगाते है जिससे हमारे ब्रेन के खास हिस्से पर दवाब पड़ने से हमारा कॉन्सेंट्रेशन बढ़ता हैं।

७. इम्युनिटी लेवल बढ़ाना-

Pooja

मंदिर में प्रवेश करने के बाद अपने ईष्ट देव को देखते ही हम अपने दोनों हाथों को जोड़ अपने प्रभु की वदना करते है। इस दौरान हमारें जुड़े दोनों हाथों के हथेलियों और उंगलियों के उन प्वॉइंट्स पर दबाव बढ़ता है, जो बॉडी के कई पार्टस से जुड़े होते हैं। इससे बॉडी फंक्शन सुधरते हैं और इम्युनिटी बढ़ती है।

 

Like
Like Love Haha Wow Sad Angry
282

Warning: A non-numeric value encountered in /home/gyaansagar/public_html/wp-content/themes/ionMag/includes/wp_booster/td_block.php on line 1008

1 COMMENT

  1. radhe radhe sir ji,,,,,i want some enquiry about “12 mdhav “that what is importance of them in our religion ,what should be do for him to take possitive results.i want know all thing about this..pleae suggess me .

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here